WhatsApp Privacy Policy Updates: 15 मई से क्या बदलेगा और क्या नहीं… 5 स्टेप में जानें

Sharing is caring!

अपनी विवादास्पद प्राइवेसी पॉलिसी अपडेट (WhatsApp Privacy Policy Updates) के साथ आगे बढ़ने के फैसले की घोषणा करने के कुछ घंटों बाद, वाट्सऐप ने भारत सरकार को सूचित किया है कि वह देश भर में यूजर्स की पर्सनल चैट की प्राइवेसी की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है.

जनवरी में, मैसेजिंग प्लेटफॉर्म ने यूजर्स को सूचित किया था कि वह एक नई प्राइवेसी पॉलिसी तैयार कर रहा है, जिसके तहत वह फेसबुक और उसकी समूह फर्मों के साथ सीमित यूजर डेटा शेयर कर सकता है. इस घोषणा पर यूजर्स खूब हंगामा खड़ा किया और नाराज होकर ज्यादातर यूजर वाट्सऐप के प्रतिद्वंद्वी ऐप्स टेलीग्राम और सिग्नल पर स्विच कर गए. इसके बाद वाट्सऐप ने नई पॉलिसी लॉन्च करने की डेडलाइन को 8 फरवरी से बढ़ाकर 15 मई कर दिया. कंपनी ने यह भी क्लियर किया कि यूजर्स बिजनेस अकाउंट के साथ मैसेज भेजने पर नई पॉलिसी असरदार होगी और पर्सनल बातचीत को प्रभावित नहीं करेगी.

अब जरूरत है कि 15 मई से पहले, वाट्सऐप की इस नई प्राइवेसी पॉलिसी को ठीक तरह से समझ लिया जाए. यहां पर हम आपको बता रहे हैं कि नई पॉलिसी लागू होने के बाद वाट्सऐप पर यूजर्स के लिए क्या बदल रहा है और क्या नहीं बदल रहा है…

एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड यूजर चैट

प्राइवेसी बदलाव के बाद यूजर्स की चैट पहले की तरह एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड रहेगी. मैसेज सेंडर और रिसीवर के बीच ही रहेगा, थर्ड पार्टी इसे एक्सेस नहीं कर सकेगी. कंपनी ने यह स्पष्ट कर दिया है कि यूजर्स के बीच शेयर किए गए सभी मैसेज और मीडिया फाइलें एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड रहेंगी. इसके बावजूद, न तो वाट्सऐप और न ही फेसबुक आपके मैसेजों को पढ़ सकेगा.

बिजनेस यूजर्स के लिए ऑप्शनल शेयरिंग

वाट्सऐप ने जोर दिया है कि वह बिजनेस के साथ यूजर्स के कॉन्टेक्ट डिटेल्स शेयर नहीं करेगा. कंपनी ने ये भी दावा किया है कि पॉलिसी यूजर्स को पहले ऐसा करने के लिए परमिशन पाए बगैर यूजर्स से संपर्क करने से रोकती है.

नई शर्तों को स्वीकार नहीं करने पर बंद हो जाएगा वाट्सऐप अकाउंट

जहां तक ​​सेवा की नई शर्तों को स्वीकार करने की बात है तो वाट्सऐप अपने इस फैसले पर जमा हुआ है. यदि यूजर 15 मई के अंत तक नई प्राइवेसी पॉलिसी को स्वीकार नहीं करते हैं, तो इसके बाद वो अपने वाट्सऐप खाते का उपयोग नहीं कर पाएंगे.

बिजनेस से बात करने का सपोर्ट ऑप्शनल

कंपनी ने कहा है कि वाट्सऐप पर बिजनेस अकाउंट से बात करने का सपोर्ट पूरी तरह से वैकल्पिक होगा. यूजर्स को वाट्सऐप पर केवल कंपनियों और ब्रांडों के साथ बातचीत कर सकते हैं यदि वोचाहते हैं तो वाट्सऐप किसी भी कंपनी / ब्रांड के साथ यूजर्स की संख्या शेयर नहीं करेगा.

फेसबुक के माध्यम से किसी व्यवसाय से जुड़ना

एक और बदलाव यह है कि अगर कोई यूजर फेसबुक / इंस्टाग्राम पर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों पर क्लिक करने का विकल्प चुनता है, तो इसका उपयोग फेसबुक पर आपके द्वारा देखे जाने वाले विज्ञापनों को पर्सनलाइज करने के लिए किया जा सकता है लेकिन न तो फेसबुक और न ही वाट्सऐप किसी भी एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड मैसेजों के कंटेंट को देख सकता है.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published.